Thursday, September 11, 2008

ऐसी कालिख जो नहीं धुलेगी

जो दूसरे को बदनाम करके नाम कमाना चाहते हैं, उनके मुँह पर ऐसी कालिख लगेगी जो मरने पर भी नहीं धुलेगी।



--- संतवाणी

-------------------





LS-52 / 04101001

3 comments:

manvinder bhimber said...

बहुत अच्छा लिखा है .....जानकारी भी है ...

विवेक सिंह said...

साधु ! साधु !

shyam kori 'uday' said...

... बहुत अच्छा लगा, प्रभावशाली व चिंतनीय अभिव्यक्ति।